युवा बेहाल/रोजगार की योजनायें खस्ताहाल

भाजपा अपने ‘संकल्प पत्र’ में छात्रों और नौजवानों से बड़े – बड़े वादे करके सत्ता में आई थी। पर तीन साल बीत जाने पर उत्तर प्रदेश के युवा को रोजी – रोजगार के नाम पर सिर्फ कुछ ‘किताबी आंकड़े’ और गरजती भड़कती ‘लफ्फाजी’ ही हाथ लगी। आईये जाने  रोजगार के लिए भटकते बदहाल, बदहवास नौजवानों की दास्ताँ को।
“तुम्हारी फाइलों में गाँव का मौसम गुलाबी है
मगर ये आंकड़े झूठे हैं ये दावा किताबी है”